pexels-yan-krukov-5480038-1200x800.jpg
26/जुलाई/2022

 

भारत में अब तक पौधों की 45,000 प्रजातियों (प्रजातियों) की खोज की जा चुकी है। उनमें से, पौधों की केवल 4,000 प्रजातियों में औषधीय/हर्बल गुण हैं। इनमें से अधिकांश पौधों का उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा जैसे आयुर्वेद, यूनानी (दवा), सिद्ध (दक्षिण भारतीय चिकित्सा), तंत्र चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, और आदिवासी चिकित्सा, टोटका चिकित्सा में किया जाता है। अनेक वृक्षों और पौधों, लताओं और पत्तियों, जड़ों और छालों का अलिखित उपयोग पूरे भारत और पश्चिम बंगाल में बिखरा हुआ है। यह पोस्ट, हर्बल उपचार द्वारा चर्म रोग का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें(भाग-II)  पाठकों के लाभ के लिए रोगों के उपचार में दी जाने वाली कुछ जड़ी-बूटियों का संदर्भ देता है। आशा है, हर्बल उपचार द्वारा चर्म रोग का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें(भाग-II)  रोगियों के लिए उपयोगी होगा।

 

(भाग-II)

 

चर्म रोग

 

एलर्जी गठिया

(1) नीम की सूखी पत्ती का चूर्ण 1 भाग हल्दी, चूर्ण 2 भाग सोंठ आमलकी का चूर्ण- 3 भाग मिलाकर सुबह-सुबह 1 ग्राम सुबह खाली पेट कुछ दिनों तक सेवन करने से गठिया रोग से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जाता है।

किसी का घाव:

(1) सूखी पुई शक के चूर्ण को जलाकर नारियल के तेल में मिलाकर लगाने से घाव जल्दी सूख जाता है।

कर्कश:

(1) निसिंडा के पत्तों का काढ़ा नारियल के तेल में मिलाकर पीने से रूसी दूर होती है। यहां तक ​​कि समय से पहले गंजेपन की समस्या भी दूर हो जाती है।

(2) कच्ची मेथी के पत्तों का रस नारियल के तेल में मिलाकर लगाने से डैंड्रफ दूर होता है।

(3) अगर सिर पर आम की कुशी और हरीतकी का लेप लगाया जाए तो इसे दूध के साथ लगाना चाहिए। डैंड्रफ दूर होता है।

छीलना:

(1) सर्दी के मौसम में जहां खुजली हो जाती है वहां मोम में नींबू का रस, चालमुगरा का तेल मिलाकर मलहम बनाने से खुजली ठीक हो जाती है।

(2) सागौन के बीज का तेल लगाने से भी यह चर्म रोग ठीक हो जाता है।

खरोंच:

(1) दुर्बा बेट को शरीर पर लगाने से खरोंच दूर हो जाती है।

(2) नहाने से पहले तेजपत्ते को त्वचा पर मलने से भी खुजली ठीक हो जाती है।

(3) यदि बूढ़े मेंढक के शरीर पर खरोंच है, तो त्वचा पर कौवे की पत्तियों को लगाने से खरोंच दूर हो जाती है। थोड़ी सी कच्ची हल्दी पाउडर मिलाने से बेहतर काम होता है।

खुजली:

(1) निसिंडा के पत्तों को तिल के तेल में उबालकर ठंडा करके लगाने से खुजली दूर होती है।

(2) जड़ के रस को त्वचा पर मलने से दाद, खाज और खुजली ठीक हो जाती है। पेस्ट लगाने के बाद शरीर को धोना चाहिए।

(3) सरसों के तेल में चिरता लगाने से 2-3 दिन में ही खुजली दूर हो जाती है।

त्वचा का रंग अलग है:

(1) अंजीर के काढ़े से क्षेत्र को धोने से त्वचा का पुराना रंग वापस आ जाता है। यह कार्य नियमित रूप से कम से कम 20-25 दिन तक करना चाहिए।

त्वचा:

(1) लौकी को जलाकर कुछ दिनों तक रगड़ने से दाने निकल जाते हैं।

(2) मेथी के दानों को रगड़कर 1-12 घंटे तक रखने के बाद धोकर धोने से रूसी दूर हो जाती है।

(3) पौधे की पत्तियों को कुचलकर दिन में 1 बार लगाने से 4-5 दिनों में खुजली कम हो जाएगी।

(4) जब त्वचा सख्त हो जाती है। अगर आप नारियल की माला को जलाकर किसी पत्थर के कटोरे में रखकर चाय की थाली से दबाते हैं, तो थाली में जमा पसीना, उस पसीने को त्वचा पर लगाने से त्वचा बेहतर होती है।

(5) छोले को भिगोकर चेहरे पर लगाने से मुंहासे और फुंसियां ​​कम हो जाती हैं।

(6) यदि आप शिमूल के कांटे को घिसकर दूध में मिलाकर अपने चेहरे पर लगाते हैं तो दाग भी मिट जाता है।

चर्म रोग का

मेचेटा:

(1) अगर आप दिन में एक बार थोड़ी सी लौकी प्रभावित जगह पर लगाएंगे तो कुछ ही दिनों में गायब हो जाएगी।

(2) अर्जुन की छाल का ताजा चूर्ण शहद में मिलाकर लगाने से मेचा के धब्बे दूर हो जाते हैं।

(3) बरगद की फली (यह फलने से पहले होता है) और मसूरी दाल को चुकंदर के साथ लेप करने से मेचेटा नष्ट हो जाता है।

श्वेती / धाबल / ल्यूकोमा

(1) यदि सफेद दाग अभी-अभी पकड़ा है, तो उसे लौकी के फूल से रगड़ना बेहतर होता है।

(2) खैर लकड़ी का चूर्ण, अंजीर की छाल (छाल) और जैंती के फूल की जड़ों को दूध में मिलाकर दिन में दो बार लगाने से सफेद धब्बे दूर हो जाते हैं।

(3) सफेद रंग में पुराने बीज बेहतर परिणाम देते हैं।

सोरायसिस:

(1) अगर आप गुलाल के काढ़े और रस से तेल बनाकर उस तेल को लगाएंगे तो त्वचा का छिलना बंद हो जाएगा।

एलोपैथिक इलाज :

त्वचा रोगों के उपचार की उपेक्षा न करना ही बेहतर है। इलाज किसी अनुभवी डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करना चाहिए।

यदि नहीं, तो एस्केमेल या नियोमेड्रोल लोशन का उपयोग किया जा सकता है। यदि आवश्यक हो तो टेट्रासाइक्लिन का उपयोग किया जा सकता है। यदि अन्य उपचार विफल हो जाते हैं, तो लड़कियों और युवकों को स्टेरॉयड दवाएं दी जा सकती हैं। एक्जिमा में पोटेशियम परमैंगनेट से धोने के लिए कैलामाइन या स्टेरॉयडल लोशन का उपयोग किया जाता है। बिना साबुन के शैम्पू, स्टेरॉयड स्कैल्प की तैयारी को स्कैल्प पर लगाया जा सकता है। प्रुरिटिस (पोटेशियम परमेगनेट (1 = 10,000) में, 3% सोडिबिकार्ब वॉश अच्छा है। कैलामाइन और स्टेरॉयड मरहम लगाया जा सकता है। सोरायसिस में कैलामाइन लोशन भी अच्छा होता है। बी-टेक्स, ढोल कंपनी से व्हाइटफील्ड ऑइंटमेंट दाद में प्रयोग किया जाता है। एस्कोबिओल, खुजली में टेटमोसोल। एंटीहिस्टामाइन डालने के लिए देखा जा सकता है एड्रेनालाईन, स्टेरॉयड, इफेड्रिन का उपयोग पित्ती में किया जाता है। डॉक्टर श्वेती में अलादीन का उपयोग करने के लिए कहते हैं।

होम्योपैथिक उपचार:

मुँहासे के पहले चरण में कार्बोवेज, बेलाडोना और पल्सस का उपयोग किया जाता है, और पुराने मामलों में कैलीब्रम, रेडिब्रोमिडम, आर्केरियम लैकोल आदि का उपयोग किया जाता है।

एक्जिमा में स्कैल्प में रसडेन, एल्युमिना, बविता, क्रोटन, एंटीमक्रोड, आर्सेनिक मार्ककोर, हेपर सल्फ आदि। आर्स, सीपिया, सल्फर आदि। जूँ में स्टैफिस, नटमुर आदि, सोरायसिस में आर्सेनिक, रेडिबम, थायरॉइडिन एथियोपम, एंटीमोनिकस, थूजा आदि। डैड बैसिलस, सल्फर सीपिया, कैल्केरिया कार्ब, टेल्लूर आदि। पित्ती में एपिम, क्लैरल, हाइड्रेट, एंटीम क्रूड, दालकुमरा, सल्फर, आर्सेनिक, नैट्रोमुर आदि। गाय के घाव में सल्फर, सोरिनम आदि रस्तोक्स, सीपिया आदि का प्रयोग किया जाता है।

भोजन:

फाइबर युक्त खाद्य पदार्थ खाना। भूसी में ज्यादा मीठा खाना न खाएं। बेहतर है कि झींगा मछली, बीफ, अंडा, बैंगन आदि न खाएं। श्वेती में नींबू न खाना ही बेहतर है। रोजाना सुबह का सूरज लगाना बेहतर होता है।

चर्म रोग का

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

आप अवश्य पढ़ें:

अनिद्रा का सफलतापूर्वक इलाज..               अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज..        एनोरेक्सिया का सफलतापूर्वक इलाज..

बवासीर का सफलतापूर्वक इलाज..              दस्त का सफलतापूर्वक इलाज ..           ट्यूमर का सफलतापूर्वक इलाज..

मासिक धर्म का सफलतापूर्वक इलाज..       चर्म रोग का इलाज कैसे करें(भाग-I)