pexels-yan-krukov-5480038-1200x800.jpg
29/जुलाई/2022

भारत में अब तक पौधों की 45,000 प्रजातियों (प्रजातियों) की खोज की जा चुकी है। उनमें से, पौधों की केवल 4,000 प्रजातियों में औषधीय/हर्बल गुण हैं। इनमें से अधिकांश पौधों का उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा जैसे आयुर्वेद, यूनानी (दवा), सिद्ध (दक्षिण भारतीय चिकित्सा), तंत्र चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, और आदिवासी चिकित्सा, टोटका चिकित्सा में किया जाता है। अनेक वृक्षों और पौधों, लताओं और पत्तियों, जड़ों और छालों का अलिखित उपयोग पूरे भारत और पश्चिम बंगाल में बिखरा हुआ है। यह पोस्ट, हर्बल उपचार द्वारा कब्ज का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें पाठकों के लाभ के लिए रोगों के उपचार में दी जाने वाली कुछ जड़ी-बूटियों का संदर्भ देता है। आशा है, हर्बल उपचार द्वारा कब्ज का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें रोगियों के लिए उपयोगी होगा।

 

 

कब्ज

यदि कुछ दिनों के बाद भी मल सामान्य रूप से नहीं निकलता है तो इसे कब्ज कहते हैं। कुछ समय से कब्ज का रहना शरीर के लिए बहुत हानिकारक होता है।

  • कब्ज 2 प्रकार।

(1) तीव्र,

2) जीर्ण।

कब्ज का कारण जानना चाहिए और तुरंत इलाज करना चाहिए।

  • रोग के लक्षण:

कब्ज निम्नलिखित लक्षण पैदा कर सकता है। जैसे- (1) सिर पकड़ना, (2) पेट फूलना, (3) भूख न लगना, (4) सूखी जीभ, (5) अनिद्रा आदि।

  • रोग का कारण:

कब्ज कई कारणों से हो सकता है। उदाहरण के लिए –

(1) मल त्याग की स्थिति में मल त्याग करना,

(2) कम हिलना,

(3) लंबे समय तक दस्त से पीड़ित रहना,

(4) प्रतिदिन पौष्टिक भोजन का सेवन करना,

(5) बार-बार सूखा खाना खाना,

(6) यदि हिस्टीरिया और न्यूरस्थेनिया है,

(7) अगर पेट में ट्यूमर है,

(8) समय पर भोजन न करना,

(9) सब्जियों और पानी आदि की कमी के कारण कब्ज हो सकता है।

  • हर्बल उपचार:

(1) 4-5 चम्मच कद्दू का रस गर्म दूध के साथ खाने से पेशाब और आंत साफ हो जाती है।

(2) हरीतकी चूर्ण को थोड़ा सा बिटालबन के साथ खाने से शौचालय साफ हो जाता है।

(3) लज्जावती की जड़ की 7-8 ग्राम की मात्रा को 2-3 कप पानी में मिलाकर मल त्याग करने से कब्ज में आराम मिलता है। पारंपरिक और आधुनिक उपचार में रोग के अनुसार जड़ी-बूटियों का उपयोग किया जाता है

(4) बदरलथी (अमलतास/सोनालू) पके फल से 1 चम्मच गुड़ जैसा पदार्थ लें और रात को सोने से पहले इसे 1 गिलास गर्म पानी में मिलाकर पीने से आंत साफ हो जाती है। यह उत्पाद 8-10 दिनों तक मल त्याग न करने की स्थिति में भी अच्छा काम करता है। इसे गर्भवती महिलाओं को कब्ज के लिए भी दिया जा सकता है। शौचालय होने से कोई कमजोरी नहीं आती है।

(5) पका हुआ पपीता, हरी बेल का चूर्ण या पकी बेल का सेवन करने से मल त्याग करने में आसानी होती है।

  • एलोपैथिक उपचार:

डॉक्टर से सलाह लेना बेहतर है। पहले मामले में, 1-2 चम्मच तरल पैराफिन दिन में 2-3 बार खाने के बाद अच्छा काम करता है। अरंडी का तेल एक रेचक के रूप में लिया जाता है। इस पौधे की भूसी भिगोना अच्छा होता है। रेचक या रेचक जैसे लक्षेना, अगरोट, ब्रुकलेक्स, डलकोलैक्स आदि दिए जाते हैं।

  • होम्योपैथिक उपचार:

रोग के लक्षणों के अनुसार नक्स, लाइकोपोडियम और नेट्रम-म्यूर-हाइड्रैस्टिस का उपयोग किया जाता है। 100-150 मिलीलीटर पानी में 1 ग्राम ग्लिसरीन मिलाकर एक खुराक लेने से कब्ज की शिकायत होगी।

आहार : सब्जियों का भरपूर सेवन करना चाहिए। मैदा और मांस कब्ज को बढ़ाता है।

कब्ज का इलाज

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

आप अवश्य पढ़ें:

अनिद्रा का सफलतापूर्वक इलाज..           अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज..    एनोरेक्सिया का सफलतापूर्वक इलाज..

बवासीर का सफलतापूर्वक इलाज..         दस्त का सफलतापूर्वक इलाज ..    ट्यूमर का सफलतापूर्वक इलाज..

नेत्र रोग का सफलतापूर्वक इलाज..

कृमिरोग का सफलतापूर्वक इलाज..