pexels-yan-krukov-5480038-1200x800.jpg
26/जुलाई/2022

भारत में अब तक पौधों की 45,000 प्रजातियों (प्रजातियों) की खोज की जा चुकी है। उनमें से, पौधों की केवल 4,000 प्रजातियों में औषधीय/हर्बल गुण हैं। इनमें से अधिकांश पौधों का उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा जैसे आयुर्वेद, यूनानी (दवा), सिद्ध (दक्षिण भारतीय चिकित्सा), तंत्र चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, और आदिवासी चिकित्सा, टोटका चिकित्सा में किया जाता है। अनेक वृक्षों और पौधों, लताओं और पत्तियों, जड़ों और छालों का अलिखित उपयोग पूरे भारत और पश्चिम बंगाल में बिखरा हुआ है। यह पोस्ट, हर्बल उपचार द्वारा नेत्र रोग का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें पाठकों के लाभ के लिए रोगों के उपचार में दी जाने वाली कुछ जड़ी-बूटियों का संदर्भ देता है। आशा है, हर्बल उपचार द्वारा नेत्र रोग का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें रोगियों के लिए उपयोगी होगा।

 

नेत्र रोग

आंखों के रोगों में आंखों की सूजन, दर्द, मोतियाबिंद, रात्रि दृष्टि, कम दृष्टि आदि प्रमुख हैं।

रोग के लक्षण:

नेत्र रोग के लक्षणों में लाल आँखें, धुंधली दृष्टि, धुंधली दृष्टि, रात्रि दृष्टि आदि शामिल हैं।

रोग के कारण:

कुपोषण, विटामिन की कमी, वायरल संक्रमण, आदि। हर्बल उपचार:

(1) जब आंखें सूज जाती हैं या सूज जाती हैं तो घी के पत्तों को उबालकर उसका रस टपकाने से चुभन बंद हो जाती है और आंखों की लाली, लाली और चुभन बंद हो जाती है।

(2) हाथी की सूंड के पत्तों का रस देने पर भी अच्छे परिणाम प्राप्त होते हैं।

(3) कच्ची हल्दी को पानी में घोलकर उस पानी से अपनी आंखें धो लें और उस पानी में भीगे हुए साफ कपड़े से अपनी आंखों को पोंछ लें।

(4) आंवले में भीगे हुए पानी से आंखों को धोने से भी भेंगापन और भेंगापन बंद हो जाता है।

(5) बेहेड़ा मलने से आंखों पर लगाने से आंखों की सूजन और पानी आना बंद हो जाता है।

(6) बेल के पत्तों के रस में कपूर मिलाकर काजोल की तरह आंखों पर लगाने से 2-3 दिन में आंखों की सूजन ठीक हो जाती है।

 

धुंधली दृष्टि:

(1) आमलकी और जष्ठीमादु को पीसकर पानी में उबालकर काढ़ा बना लें और धुंधली दृष्टि को दूर करने के लिए 2-4 दिनों तक पानी में डालें।

(2) यदि पिंचुटी धुंधली हो तो नीम के पत्तों के रस को दूध और पानी में मिलाकर टपकाने से अच्छे परिणाम मिलते हैं।

  • अगर आंखें लाल हैं:

अगर किसी कारण से आंखें लाल हो जाती हैं तो गेंदे के फूल के रस की 1 बूंद 2 दिन तक देने से यह ठीक हो जाता है।

  • आँख का स्राव:

अगर किसी कारण से आंखों में पानी आता है तो अरंडी का तेल कबूतर के पंख पर लगाने से अच्छे परिणाम मिलते हैं।

  • मोतियाबिंद:

लौकी के सफेद पत्तों को गर्म करके आंखों में जहां मोतियाबिंद शुरू हो गया है वहां रस मलने से 1 दिन बाद ठीक हो जाता है।

  • कुटिल पढ़ना:

जिंग के युवा पत्तों के रस की 1-2 बूंदों को गर्म करके आंखों में डालने से समस्या ठीक हो जाती है।

  • रात का समय:

(1) शतामूली के पत्तों को 5-7 ग्राम घी में भूनकर कुछ दिनों तक खाने से रतौंधी दूर होती है।

(2) सप्ताह में 3-4 दिन लहसुन चबाकर थोड़ा-सा दूध पीने से रोग ठीक हो जाता है।

  • एलोपैथिक उपचार:

बेहतर होगा कि आप किसी अच्छे नेत्र रोग विशेषज्ञ से इलाज कराएं। सामान्य परिस्थितियों में, कुछ आई ड्रॉप और कुछ मलहम दिया जा सकता है। उदाहरण के लिए, क्लोरैम्फेनिकोल क्लोरोमाइसेटिन नियोमाइसिन, पेनिसिलिन सिप्लॉक्स, आदि। स्टेरॉयड दवाओं में बेटनोसोल कोर्टिसोल आदि शामिल हैं।

  • होम्योपैथिक उपचार:

डॉक्टर की राय से इलाज जरूरी है। लेकिन अर्निका, चाइना, फॉस्फोरस, एसिड फॉस, कांके कार्ब, हींग, अर्जेंटम, नाइट्रिकस, एकोनाइट, एलियम सेपा, यूफ्रेसिया, क्रुपिकम, रोबैक्स-सीना आदि लक्षणों के अनुसार दिए जाते हैं। मोतियाबिंद देने के लिए सिनेरिया मेरिटिना पाया जाता है।

  • भोजन:

रात में विटामिन ए का सेवन करना चाहिए। जैसे- लाल अखरोट, कचुषक, गाजर, टमाटर, सौंफ मछली, पपीता आदि में।

नेत्र रोग का इलाज

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

आप अवश्य पढ़ें:

अनिद्रा का सफलतापूर्वक इलाज..           अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज..    एनोरेक्सिया का सफलतापूर्वक इलाज..

बवासीर का सफलतापूर्वक इलाज..         दस्त का सफलतापूर्वक इलाज ..    ट्यूमर का सफलतापूर्वक इलाज..

मासिक धर्म का सफलतापूर्वक इलाज..    खाँसी का सफलतापूर्वक इलाज ..