pexels-yan-krukov-5480038-1200x800.jpg
21/जुलाई/2022

भारत में अब तक पौधों की 45,000 प्रजातियों (प्रजातियों) की खोज की जा चुकी है। उनमें से, पौधों की केवल 4,000 प्रजातियों में औषधीय/हर्बल गुण हैं। इनमें से अधिकांश पौधों का उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा जैसे आयुर्वेद, यूनानी (दवा), सिद्ध (दक्षिण भारतीय चिकित्सा), तंत्र चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, और आदिवासी चिकित्सा, टोटका चिकित्सा में किया जाता है। अनेक वृक्षों और पौधों, लताओं और पत्तियों, जड़ों और छालों का अलिखित उपयोग पूरे भारत और पश्चिम बंगाल में बिखरा हुआ है। इस पोस्ट में, पाठकों के लाभ के लिए रोगों के उपचार में 50+ सामान्य रोग और इलाज के लिए जड़ी-बूटियाँ (1) कुछ जड़ी-बूटियों का संदर्भ दिया गया है। इलाज के लिए जड़ी बूटी (1) रोगियों के लिए उपयोगी हो सकती है।

 

रोग: अपच

अपच एक जानी-पहचानी बीमारी है। इस रोग में रोगी के शरीर में खून की कमी हो जाती है और समय से पहले बुढ़ापा आ जाता है। इस बीमारी को जल्द से जल्द ठीक करने की जरूरत है।

  • रोग के लक्षण:

पेट में गैस का दर्द, डकार, एसिडिटी, सिरदर्द, सीने में धड़कन, पेट में गड़गड़ाहट, अत्यधिक गैस, मुंह से पानी आना आदि।

रोग का कारण : अधिक तेल, घी और मिर्च के साथ भारी भोजन करना। बिना चबाये खाना असमय खाना। जरूरत से ज्यादा खाना। चिंता आदि इस रोग का प्रमुख कारण है।

जड़ी बूटी (1)

  • हर्बल उपचार:

कुछ दिनों तक पपीते की सब्जी खाने से ठीक हो सकता है। यह रोग ठीक हो जाता है। क्योंकि पपीते में डाइजेस्टिव पैपिन होता है।

यदि मसालेदार भोजन करने के बाद असुविधा होती है, तो कुछ (3-4) काली मिर्च चबाने और थोड़ा गर्म पानी पीने से बेचैनी दूर हो जाएगी।

यदि नियमित रूप से अपच हो तो सूखे और हरे केले के चूर्ण को बराबर मात्रा में मिलाकर जौ की रोटी बनाकर सेवन करने से पूरी तरह ठीक हो जाता है।

हरीतकी चूर्ण को गुड़ के साथ लेने से अपच में लाभ होता है।

खट्टा स्वाद हो और मल पर्याप्त साफ न हो, छाती और गले में कभी-कभी जलन हो रही हो तो 1-12 ग्राम अजवायन, थोड़ी हरीतकी और आमलकी का चूर्ण नमक के साथ लें और पानी पीएं। अपच से छुटकारा।

सौंफ 5 ग्राम की मात्रा में 2 कप पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर सुबह-शाम सेवन करने से लाभ होता है।

कालमेघ के पत्तों का काढ़ा थोड़े से नमक के साथ दिन में 2 बार लेने से अपच में आराम मिलता है।

500 मिलीग्राम ईश्वरमूल पाउडर को थोड़े से गर्म पानी के साथ लेने से पेट दर्द में आराम मिलता है। कुछ दिनों तक इसका सेवन करने से इस प्रकार का पेट दर्द ठीक हो जाता है।

एलोपैथिक उपचार में आमतौर पर पाचक एंजाइमों का उपयोग किया जाता है जैसे – पेप्सिन, मोनोजाइम, डायस्टेस आदि

होम्योपैथिक उपचार नॉक्स, पल्स, ब्रायोनिया, लाइकोपोडियम, कार्बोवेज आदि रोग के कारण और लक्षणों के अनुसार दिए जाते हैं।

 

भोजन: नींबू, पपीता। जंक फूड न खाएं।

चिंतित व्यक्ति को खाना खाने के बाद थोड़ा आराम करना चाहिए।

Herbs for Cure (1)

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

आप अवश्य पढ़ें:

30 अद्भुत भोजन .. #1Pomegranate (अनार  ) 

30 अद्भुत भोजन … #2ADRAK (अदरक)

30 अद्भुत भोजन … #3 Mango (आम)

30 अद्भुत भोजन … #4 बीशोप वीड सीड (अजवायन )