pexels-yan-krukov-5480038-1200x800.jpg
23/जुलाई/2022

भारत में अब तक पौधों की 45,000 प्रजातियों (प्रजातियों) की खोज की जा चुकी है। उनमें से, पौधों की केवल 4,000 प्रजातियों में औषधीय/हर्बल गुण हैं। इनमें से अधिकांश पौधों का उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा जैसे आयुर्वेद, यूनानी (दवा), सिद्ध (दक्षिण भारतीय चिकित्सा), तंत्र चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, और आदिवासी चिकित्सा, टोटका चिकित्सा में किया जाता है। अनेक वृक्षों और पौधों, लताओं और पत्तियों, जड़ों और छालों का अलिखित उपयोग पूरे भारत और पश्चिम बंगाल में बिखरा हुआ है। यह पोस्ट, हर्बल उपचार द्वारा एसिडिटी को सफलतापूर्वक कैसे ठीक करें कुछ जड़ी-बूटियों का संदर्भ देता है जो पाठकों के लाभ के लिए रोगों के उपचार में दी जाती हैं। आशा है, हर्बल उपचार द्वारा अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें रोगियों के लिए उपयोगी होगा।

पेट की गैस

कोई भी खाना खाने के बाद पेट से एसिड स्त्रावित होता है। तले हुए भोजन और मसालेदार भोजन के कारण पेट में अधिक एसिड स्रावित होता है, जिससे गैस्ट्राइटिस हो जाता है। इसे हार्टबर्न या एसिडिटी कहते हैं। इस सूजन की प्राथमिक स्थिति को तीव्र जठरशोथ कहा जाता है। अगर यह स्थिति लंबे समय तक बनी रहे तो इसे क्रॉनिक गैस्ट्राइटिस कहते हैं।

रोग के लक्षण: पेट में जलन, मुंह में स्वाद, जीभ का सूखना, कब्ज, पेट फूलना, नाराज़गी, हमेशा जी मिचलाना। रोग के कारण : बहुत अधिक मसालेदार भोजन करना, बहुत अधिक तला-भुना खाना, समय

ठीक से खाना न खाना, खाना ठीक से न चबाना, बहुत ज्यादा तेल और मसाले

लेना, अधिक धूम्रपान करना, बहुत अधिक चाय और कॉफी पीना आदि।

हर्बल उपचार:

  • 2 कप आंवला को भीगे हुए पानी में थोड़े से घी के रस में मिलाकर पीने से जलन से राहत मिलती है।
  • कच्ची हल्दी 1 सें.मी. सप्ताह में 2-3 दिन सुबह खाली पेट चबाने से जलन ठीक हो जाती है।
  • धनिया और सौंफ में भिगोकर सुबह पानी पीने से गैस और एसिडिटी से राहत मिलती है.
  • त्रिफला को सुबह पानी में भिगोकर पीने से गैस और सीने में जलन से राहत मिलती है।
  • नाराज़गी में नीम के पत्तों का सूखा चूर्ण सुबह के समय थोड़े से शहद के साथ लेने से लाभ होता है।
  • कालमेघ के ताजे पत्तों का काढ़ा सुबह के समय पीने से जलन ठीक नहीं होती है।

अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज

एलोपैथिक इलाज :

एंटासिड दवाओं जैसे एंटासिल, अलनासिल, ऑक्सीकोन-एन, गेलुसिल, पॉलीक्रोल आदि का उपयोग किया जाता है। हालांकि, अगर आंत में घाव हो जाता है, तो डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

होम्योपैथिक उपचार:

लाइकोपोडियम, पोडोफिलम, हाइड्रैस्टिस, चाइना, पल्सेटिला, कारबेज आदि लक्षणों के अनुसार दिए जा सकते हैं।

आहार: पपीता, हरी बीन्स, आसानी से पचने योग्य भोजन करें, अधिक पानी पिएं और चिंता से मुक्त रहें।

अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

आप अवश्य पढ़ें:

अनिद्रा का सफलतापूर्वक इलाज..                  एनोरेक्सिया का सफलतापूर्वक इलाज..

बवासीर का सफलतापूर्वक इलाज..              दस्त का सफलतापूर्वक इलाज ..           ट्यूमर का सफलतापूर्वक इलाज..

मासिक धर्म का सफलतापूर्वक इलाज..       चर्म रोग का इलाज कैसे करें(भाग-I)