pexels-yan-krukov-5480038-1200x800.jpg
24/जुलाई/2022

भारत में अब तक पौधों की 45,000 प्रजातियों (प्रजातियों) की खोज की जा चुकी है। उनमें से, पौधों की केवल 4,000 प्रजातियों में औषधीय/हर्बल गुण हैं। इनमें से अधिकांश पौधों का उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा जैसे आयुर्वेद, यूनानी (दवा), सिद्ध (दक्षिण भारतीय चिकित्सा), तंत्र चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, और आदिवासी चिकित्सा, टोटका चिकित्सा में किया जाता है। अनेक वृक्षों और पौधों, लताओं और पत्तियों, जड़ों और छालों का अलिखित उपयोग पूरे भारत और पश्चिम बंगाल में बिखरा हुआ है। यह पोस्ट, हर्बल उपचार द्वारा दस्त का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें पाठकों के लाभ के लिए रोगों के उपचार में दी जाने वाली कुछ जड़ी-बूटियों का संदर्भ देता है। आशा है, हर्बल उपचार द्वारा दस्त का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें रोगियों के लिए उपयोगी होगा।

दस्त

तटीय राज्यों में हर साल डायरिया, आंतों की बीमारियों और बच्चों में डायरिया के कारण कई लोगों की जान चली जाती है। इस रोग का प्रकोप विशेष रूप से बरसात के मौसम में और कुछ क्षेत्रों में बाढ़ के अंत में अधिक होता है।

  • रोग के लक्षण:

असामान्य रूप से ढीला मल। शरीर में डिहाइड्रेशन हो सकता है। पेट फूलना, सुस्ती, जी मिचलाना आदि इस रोग के लक्षण हैं।

  • रोग का कारण:

दस्त का कारण बनने वाले सभी कारणों में

(1) अनजाने में जहरीले खाद्य पदार्थों का सेवन करना।

(2) ऐसा कोई भी भोजन करना जिससे एलर्जी हो जैसे अंडे, झींगा, हिलसा, मशरूम, बीफ आदि।

(3) साल्मोनेला बैक्टीरिया द्वारा भोजन का संदूषण।

(4) हैजा के कीटाणु या कोई भी वायरस पानी या भोजन में शरीर में प्रवेश करने से दस्त और आंतों के रोग हो सकते हैं।

जब इनमें से कोई भी कारक होता है, तो छोटी आंत तनावग्रस्त हो जाती है और तेजी से सिकुड़ती है, जिससे मल के पानी वाले हिस्से को अवशोषित होने का समय नहीं मिलता है। जिसके लिए पतला मल होता है।

दस्त का सफलतापूर्वक इलाज

  • हर्बल उपचार:

(1) नींबू के रस से बना ओआरएस खिलाकर बार-बार खिलाना; जिससे शरीर में पानी की कमी न हो।

(2) यदि मल बहुत पतला है, रुकता नहीं है, तो आमलकी का एक टुकड़ा नाभि के चारों ओर रख दें और उस पर अदरक के रस में भिगोए हुए भेड़िये को दबाएं और अदरक का रस थोड़ा-थोड़ा करके दें और अदरक का रस थोड़ा-थोड़ा करके खाएं।

(3) बार-बार मल त्याग करना। गंध विशेष नहीं है। रंग भी पीला है। अगर ऐसा है तो कालकासुंद के पत्तों के रस का 1 चम्मच दिन में 2 बार सेवन करने से 3 दिन में ही ठीक हो जाता है।

(4) जोर से मल। आम के साथ गिर रहा है। हवा निकलने का डर, ये निकल जाएगा। फिर 2 ग्राम बरहा चूर्ण, 250 मिली मुठ का रस सुबह और दोपहर 2 दिन तक सेवन करने से लाभ होगा।

(5) पेट में दर्द, जी मिचलाना और उल्टी, मल के साथ खूनी मल, 5 ग्राम पिसी हुई छाल (छाल) और 2 कप पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर दिन में 2-3 दिन तक सेवन करने से यह समस्या ठीक हो जाती है।

(6) अतिसार, उल्टी के साथ- अमरूद के पत्तों को 2-3 कप पानी में 4-5 घंटे तक उबालकर काढ़ा बनाकर दिन में 2-3 घंटे में इस काढ़े को पीने से यह रोग ठीक हो जाता है।

बहुत खराब गंध दे रहा है । तेजी से निकल जाता है। फिर 15 ग्राम ताजे पत्तों को 2 कप पानी में उबालकर काढ़ा बनाकर हर 10-20 मिलीलीटर में पीने से रोग ठीक हो जाता है।

  • एलोपैथिक उपचार:

इमोडिस, इमोडियम, लोमोटिल, फुरोक्सोन, स्ट्रेप्टोट्रिया, आदि। लेकिन बीमारी के कारण के अनुसार दवा लिखना बेहतर है।

  • होम्योपैथिक उपचार:

पल्सेटिला, एपिकैक, एकोनाइट, कैल्के-कार्ब, मर्क-सोल, चाइना आदि लक्षणों के अनुसार इस रोग की प्रमुख औषधियाँ हैं। आहार: डिब्बा बंद पानी, जौ और फलों का रस देना अच्छा होता है। ओआरएस बनाकर बार-बार पिलाना चाहिए।

दस्त का सफलतापूर्वक इलाज

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

आप अवश्य पढ़ें:

अनिद्रा का सफलतापूर्वक इलाज..  अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज..    एनोरेक्सिया का सफलतापूर्वक इलाज..

बवासीर का सफलतापूर्वक इलाज..