वैद्यनाथ धाम-झारखंड में भगवान शिव का सबसे पवित्र मंदिर

अगस्त 20, 2022 by admin0
Baidyanath-Dham.jpg

 

दंतकथा:

वैद्यनाथ धाम भारत में पाए जाने वाले बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यह ज्योतिर्लिंग झारखंड प्रांत के देवघर जिले में स्थित है। शास्त्रों और लोक दोनों में इसकी बहुत प्रसिद्धि है। इसकी स्थापना के संबंध में कहा जाता है कि एक बार राक्षस राजा रावण ने हिमालय पर जाकर भगवान शिव के दर्शन पाने के लिए घोर तपस्या की थी।

उन्होंने एक-एक करके अपना सिर काट लिया और उन्हें शिवलिंग पर चढ़ाने लगे। इस प्रकार, उसने अपने नौ सिर काट दिए और उन्हें वहीं अर्पित कर दिया। जब वह अपना दसवां और अंतिम सिर चढ़ाने के लिए तैयार हुए, तो भगवान शिव बहुत प्रसन्न और संतुष्ट होकर उनके सामने प्रकट हुए। रावण का हाथ पकड़कर, जो उसका सिर काटने के लिए उत्सुक था, उसने उसे ऐसा करने से रोक दिया। उसने भी पहले की तरह अपने नौ सिर जोड़ लिए और बहुत प्रसन्न होकर उससे वरदान मांगने को कहा।

वैद्यनाथ धाम

रावण ने भगवान शिव को दूल्हे के रूप में उस लिंग को अपनी राजधानी लंका ले जाने के लिए कहा। शिव ने उन्हें यह वरदान दिया लेकिन एक शर्त के साथ। उन्होंने कहा कि आप इसे ले जा सकते हैं, लेकिन अगर आप इसे रास्ते में कहीं रखते हैं, तो यह वहां अचल हो जाएगा, फिर आप इसे उठा नहीं पाएंगे। रावण ने यह स्वीकार कर लिया और उस शिवलिंग को लेकर लंका के लिए रवाना हो गया। रास्ते में उसे छोटे-छोटे संदेह करने की जरूरत महसूस हुई। छोटी-छोटी शंकाओं को दूर करने के लिए उन्होंने उस शिवलिंग को एक अहीर के हाथ में छोड़ दिया। अहीर को लगा कि शिवलिंग का वजन बहुत अधिक है और उसे मजबूरन उसे वहीं जमीन पर रखना पड़ा।

वैद्यनाथ धाम

रावण जब वापस आया तो बहुत प्रयास करने के बाद भी वह उस शिवलिंग को किसी भी तरह से नहीं उठा सका। अंत में असहाय होकर उस पवित्र शिवलिंग पर अंगूठा छापकर उसे वहीं छोड़कर लंका लौट गए।

उसके बाद भगवान ब्रह्मा, विष्णु आदि देवताओं ने वहां आकर उस शिवलिंग की पूजा की। इस ज्योतिर्लिंग को श्री वैद्यनाथ के नाम से जाना जाता है। यह ग्यारह अंगुल ऊँचा होता है। इसके ऊपर अंगूठे के आकार का एक गड्ढा है। कहा जाता है कि यह वही निशान है जो रावण ने अपने अंगूठे से बनाया था। यहां दूर-दूर से तीर्थों का जल लाने का विधान है। इस ज्योतिर्लिंग की महिमा रोगों से मुक्ति के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है।

अपनी इच्छा की पूर्ति में गिद्धौर शहर की राजमाता ने गुंबद पर एक चौथाई मन का स्वर्ण कलश स्थापित किया था। विश्वकर्मा द्वारा निर्मित बाबा के गुंबद में एक चंद्रकांत रत्न है। इसे पीता भूमि भी कहते हैं। ऐसा

 

कहा जाता है कि यहां माता सती का हृदय गिरा था, यहां चिता बनाकर उनका अंतिम संस्कार किया गया था। बाबा वैद्यनाथ के लिंग के आठ नाम हैं – आत्म लिंग, मघेश्वर लिंग, कामद लिंग, रावणेश्वर लिंग, वैद्यनाथ लिंग, और मार्ग लिंग, तत्पुरुष, बैजुनाथ लिंग।

यह भारत का एकमात्र शिवलोक है, जहां एक वर्ष में एक करोड़ से अधिक कावड़ चढ़ाए जाते हैं। सावन में सिर्फ 70 से 75 लाख कावड़ चढ़ते हैं। श्रद्धालु सुल्तानगंज से कावड़ उठाकर 105 किमी पैदल चलकर जाते हैं। पैदल यात्रा करके वे भूखे-प्यासे रहकर कावड़ चढ़ाने का कार्य करते हैं। खराब और टूटी सड़कों के कारण यात्रियों के पैरों में छाले पड़ जाते हैं, लेकिन इसकी परवाह किए बिना यात्री आराम से चलते रहते हैं।

वैद्यनाथ धाम

हर सुबह बाबा वैद्यनाथ की श्रृंगार पूजा शुरू होती है। शिवलिंग को इत्र, गंगाजल और पंचामृत आदि से स्नान कराकर फूल-मालाएं अर्पित की जाती हैं और फूलों का मुकुट पहनाया जाता है। इसके बाद भोग लगाया जाता है। आरती की जाती है और चंदन का लेप चढ़ाया जाता है। इसे धाम चंदन कहते हैं।

मंदिर:

मंदिर में तीन प्रवेश द्वार हैं। मुख्य द्वार उत्तर दिशा में है। इस प्रवेश द्वार को सिंहद्वार के नाम से भी जाना जाता है। सिंहद्वार के मंदिर के प्रांगण में प्रवेश करते हुए एक और बहुत गहरा रहता है। इस कुएं को चंद्रकूप कहा जाता है। पद्म पुराण के अनुसार इस कुएं का निर्माण रावण ने करवाया था। इसी कुएं में उन्होंने कई तीर्थों का जल डाला था। वैद्यनाथ मंदिर में आने वाले भक्त या तो अपने साथ लाए गंगाजल को शिवलिंग पर चढ़ाते हैं या इस चंद्र कुएं का पानी चढ़ाते हैं।

वैद्यनाथ के प्रांगण में पार्वती मंदिर, जगत जननी, गणेश, ब्रह्मा, कालभैरव, संध्या, हनुमान, मनसा देवी, सरस्वती देवी, सूर्य, मां बगला, रामजानकी, गंगा, आनंद भैरव, नर्मदेश्वरी महादेव, तारा, काली, अन्नपूर्णा, लक्ष्मी नारायण नीलकंठ आदि के मन्दिरों की स्थापना होती है। भक्तों को इन मंदिरों में अवश्य जाना चाहिए। वैद्यनाथ धाम शुरू से ही महापुरुषों की भूमि रही है।

वैद्यनाथ धाम

 

रावण मर्यादा पुरुषोत्तम राम, माता सीता, आदि शंकराचार्य, रामकृष्ण परमहंस, उनकी पत्नी शारदा देवी, क्रांतिकारी अरविंद घोष, उपन्यासकार शरदचंद्र चट्टोपाध्याय, भारत रत्न डॉ. राजेंद्र प्रसाद, सुभाष चंद्र बोस, बाबा ब्रह्मचारी, दाता खान, भक्त बैजू और कई मुख्यमंत्री वर्तमान समय में और सांसद वैद्यनाथ धाम के दर्शन कर चुके हैं।

यात्रा करने का सर्वोत्तम समय:

मंदिर में दस हजार पांडा कार्यरत हैं। मंदिर का क्षेत्रफल 1 एकड़ है। सावन के एक माह के मेले में 1 करोड़, भाद्रो के एक माह में 25-30 लाख, सामान्य दिनों में प्रतिदिन 4-5 हजार, शिवरात्रि मेले में 10 लाभ और पूरे वर्ष में लगभग 1.5 करोड़ दर्शन होते हैं।

विशिष्ट जानकारी:

  • इस शिवलिंग की स्थापना रावण ने की है।
  • यह बारहवें ज्योतिर्लिंगों में से एक है।
  • सावन के महीने में एक करोड़ कावड़ चढ़ाया जाता है, मंदिर में नहीं दुनिया को इतने कावड़ मिलते हैं।
  • 150 किमी. लंबा मेला दुनिया में सिर्फ इसी मंदिर में लगता है।
  • इसके ऊपर कलश सोने का है।
  • मंदिर के गुंबद में चंद्रकांता मणि स्थापित है।
  • मंदिर में दस हजार पांडा कार्यरत हैं।

कैसे पहुंचे वैद्यनाथ धाम:

हवाई मार्ग से: आप कोलकाता हवाई अड्डे या रांची हवाई अड्डे से ट्रेन से देवघर पहुँच सकते हैं।

ट्रेन द्वारा: देवघर जसीडीह जंक्शन से 6 किमी दूर है

सड़क मार्ग से: वैद्यनाथ धाम देवघर बस स्टैंड से लगभग 3 किमी दूर है।

वैद्यनाथ चित्तरंजन से 86 किमी, जसीडीह से 06 किमी, देवधर से 100 किमी, पटना से 270 किमी, लखनऊ से 700 किमी, दिल्ली से 1,220 किमी, कोलकाता से 383 किमी, रांची से 336 किमी, धनबाद से 105 किमी, भागलपुर से 140 किमी किमी.

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

 

आप यह भी पढ़ सकते हैं: 

 


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *