हर्बल उपचार द्वारा मासिक धर्म का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें

जुलाई 25, 2022 by admin0
pexels-yan-krukov-5480038-1200x800.jpg

भारत में अब तक पौधों की 45,000 प्रजातियों (प्रजातियों) की खोज की जा चुकी है। उनमें से, पौधों की केवल 4,000 प्रजातियों में औषधीय/हर्बल गुण हैं। इनमें से अधिकांश पौधों का उपयोग पारंपरिक भारतीय चिकित्सा जैसे आयुर्वेद, यूनानी (दवा), सिद्ध (दक्षिण भारतीय चिकित्सा), तंत्र चिकित्सा, प्राकृतिक चिकित्सा, और आदिवासी चिकित्सा, टोटका चिकित्सा में किया जाता है। अनेक वृक्षों और पौधों, लताओं और पत्तियों, जड़ों और छालों का अलिखित उपयोग पूरे भारत और पश्चिम बंगाल में बिखरा हुआ है। यह पोस्ट, हर्बल उपचार द्वारा मासिक धर्म का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें पाठकों के लाभ के लिए रोगों के उपचार में दी जाने वाली कुछ जड़ी-बूटियों का संदर्भ देता है। आशा है, हर्बल उपचार द्वारा मासिक धर्म का सफलतापूर्वक इलाज कैसे करें रोगियों के लिए उपयोगी होगा।

मासिक धर्म के रोग

महिलाओं में मासिक धर्म 10-16 साल की उम्र के बीच होता है और शरीर के स्वस्थ रहने पर 40-50 साल तक जारी रहता है। मासिक धर्म 3-4 दिनों से 6-7 दिनों तक हर 28 दिनों में 1 बार रहता है। यह आमतौर पर एक बीमारी के रूप में निदान किया जाता है जब कम या ज्यादा जलन दर्द होता है। ऐसे में किसी अच्छे डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

  • मासिक धर्म विकार के लक्षण:

(1) अमेनोरिया,

(2) मेनोरेजिया,

(3) कष्टार्तव,

(4) कम मासिक धर्म,

(5) अनियमित मासिक धर्म,

(6) मासिक धर्म में देरी। विलंबित मासिक धर्म) आदि। मुख्य।

  • रोग का कारण:

कुपोषण के कारण और मासिक धर्म के दौरान इस्तेमाल होने वाले कपड़े को सोडा, साजिमती आदि से अच्छी तरह से नहीं धोना चाहिए और सार्वजनिक शर्म के डर से एक अंधेरी जगह में सुखाना चाहिए। नतीजतन, फंगल और बैक्टीरियल संक्रमण इन बीमारियों का कारण हैं।

हर्बल उपचार:

मज्जा निर्वहन:

यदि स्राव से बदबू आ रही हो तो सफेद चंदन को गर्म पानी में थोड़े से नींबू के रस के साथ दिन में दो बार मलने से लाभ होता है। नींबू की जगह इसे गर्म दूध में मिलाकर पी सकते हैं। डिस्चार्ज में आने वाली दुर्गंध से छुटकारा पाने के लिए अनंत की जड़ का काढ़ा 2-3 चम्मच और कुट्टू का रस दिन में 2 बार सेवन करने से डिस्चार्ज में दुर्गंध नहीं आती है।

  • अनियमित चक्र:

(1) थंकुनी के पत्तों के रस में थोड़ी सी काली मिर्च का पाउडर मिलाकर कुछ दिनों तक सेवन करने से अच्छे परिणाम मिलते हैं।

(2) लाल सालुक या लाल कमल का घेरा या मुठे का काढ़ा मौसम में कुछ महीनों तक मिश्री या शहद के साथ लेने से समस्या ठीक हो जाती है।

(3) यदि अनियमितता और मात्रा कम हो तो 10 ग्राम नारियल की जड़, 7-8 ग्राम बाँस की जड़ और 8-10 ताजे बाँस के पत्ते और 5 ग्राम बैंगन के पौधे की जड़ों को मिलाकर काढ़ा बनाकर उसमें काली मिर्च पाउडर मिला दें। मासिक धर्म शुरू होने से 7-8 दिन पहले उस काढ़े का सेवन करें। आपको एक दिन पहले से 2 बार भोजन करना चाहिए। मासिक धर्म के दौरान खाना बंद कर देना चाहिए। इस तरह 3-4 महीने तक खेलने से समस्या दूर हो जाती है।

(4) अनियमित पीरियड्स अचानक बंद हो जाए तो 5 ग्राम सौंफ का काढ़ा दिन में 2-3 बार सेवन करने से इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

(5) यदि मासिक धर्म से बहुत पहले या बाद में, फिर से सुबह और दोपहर में नहीं, तो इस बार यह अगली सुबह दिखाई दी। काली गांठें और ऐसा होने पर काफी दर्द होता है। रोग के अनुसार जड़ी-बूटियों के पौधों का प्राकृतिक एवं आधुनिक उपचार। ऐसे में सुबह और दोपहर में कुछ दिनों तक इसमें भिगोई हुई मेथी और धनियां बराबर मात्रा में लेने से समस्या खत्म हो जाएगी।

(6) 2-1 दिनों के लिए थोड़ा सा डिस्चार्ज होता है या कोई डिस्चार्ज नहीं होता है, कभी-कभी 1 महीने तक रुक जाता है, फिर 2-3 जबा फूल की कलियों को दालचीनी और थोड़ा सा शहद मिलाकर कुछ दिनों तक लेने से अचूक परिणाम मिलते हैं। ..

(7) मासिक धर्म से 5-7 दिन पहले अनियमित या अल्प या अत्यधिक स्राव, 500 मिलीग्राम काला जीरा चूर्ण गर्म पानी में सुबह-दोपहर के समय लेने से रोग ठीक हो जाता है।

  • ऋतु की कमी:

(1) पेट के निचले हिस्से में दर्द के साथ डिस्चार्ज कम हो तो ईख के पत्तों को गर्म करके पेट के निचले हिस्से में नाभि के नीचे तब तक रखें जब तक कि पत्तियां सूख न जाएं।

(2) सुई का दर्द, यदि स्राव कम हो तो पल्टे मदारा के पत्ते का रस 3-4 दिन तक सेवन करने से लाभ होता है।

(3) मासिक धर्म किसी भी कारण से कम हो रहा हो, 15 मिलीग्राम कपूर और 400 मिलीग्राम दालचीनी का चूर्ण पानी में कुछ दिनों तक सुबह और दोपहर में मिलाकर पीने से स्राव में वृद्धि होगी।

(4) पेट के निचले हिस्से या कमर में दर्द, कम स्राव, लाल रंग, चाक चाक, ऐसे में 250 मिलीग्राम उल्टकंबल की छाल (छाल) का चूर्ण काली मिर्च के पाउडर में मिलाकर मासिक धर्म से 4-5 दिन पहले 3-4 बार लें। महीने अच्छे परिणाम प्राप्त करने के लिए।

(5) गर्भवती नहीं मासिक धर्म रुक जाता है लेकिन गर्भधारण की संभावना नहीं होती है, लेकिन स्तन और कमर में दर्द होता है। ऐसे में एलोवेरा के पत्तों का चूर्ण और उस चूर्ण को 2-3 ग्राम शहद में मिलाकर पीने से समस्या दूर हो जाती है।

(6) यदि स्राव बहुत अधिक हो तो पंचमुखी जबर की 2 कलियाँ चावल और चुकंदर के पानी में मिलाकर उस अवधि में कुछ महीनों तक सेवन करने से कोई समस्या नहीं होगी।

(7) 150 मिलीग्राम घी के साथ तली हुई सिद्धि को 2-3 दिनों तक सुबह-दोपहर में भूनने से मासिक धर्म का प्रवाह कम हो जाता है।

(8) मासिक धर्म समय से पहले बंद हो जाने पर 5-6 पके पपीते के बीज का चूर्ण सुबह और दोपहर पानी के साथ लेने से ट्यूमर के कारण बंद न होने पर अच्छा रहता है।

<span class="btHighlight">फॉलो करने के लिए क्लिक करें: </span> फेसबुक और ट्विटर आप अवश्य पढ़ें: अनिद्रा का सफलतापूर्वक इलाज..  अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज..    एनोरेक्सिया का सफलतापूर्वक इलाज.. बवासीर का सफलतापूर्वक इलाज..    दस्त का सफलतापूर्वक इलाज ..    ट्यूमर का सफलतापूर्वक इलाज..

  • रजवा: गुलमे:

(गर्भावस्था के लक्षण, मां का दूध नहीं, पेट में दर्द, अरुचि, लेकिन गर्भावस्था नहीं)

(1) ऐसी स्थिति में 2-3 ग्राम चतीम के फूल को सुबह-शाम कुछ दिनों तक सेवन करने से प्रकंद टूट कर बाहर निकल जाता है।

(2) चाकुण्डे के बीजों का काढ़ा शहद में मिलाकर पीने से स्त्राव होता है।

(3) कलमी की सब्जी खाने से 3-4 दिन में डिस्चार्ज सामान्य हो जाता है।

  • एलोपैथिक उपचार:

इलाज किसी अनुभवी डॉक्टर की सलाह के अनुसार ही करना चाहिए। खान-पान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। हाइपरमेनोरिया की स्थिति में आयरन और विटामिन के अलावा हार्मोन इंजेक्शन दिए जाते हैं।

अगर आपको 18 साल बाद भी मासिक धर्म नहीं आता है तो आप अच्छा खाना, आयरन, कैल्शियम और विटामिन दे सकती हैं। मासिक धर्म की समस्याओं के लिए अच्छे उपचार की आवश्यकता होती है। एनाल्जेसिक दवाएं एस्ट्रोजन, टेस्टोस्टेरोन रोन हार्मोन का उपयोग किया जाता है। एथिनिल ओस्ट्राडियोल को 15 से 24 दिनों में दिन में दो बार 0.05 मिलीग्राम की खुराक पर दिया जाता है।

  • होम्योपैथिक उपचार:

अमेनोरिया में लक्षणों के अनुसार पल्सेटिला, ब्रायोनिया, एकोनाइट, सल्फर और नेट्रम मूर का प्रयोग किया जाता है। (अत्यधिक माहवारी) हाइड्रैसिस्ट, चाइना, बोरेक्स, एलो, मैग्नेशिया कार्ब, आर्सेनिक, कैमेलिया आदि।

कष्टार्तव में एकोन, आर्स, कैमो, पल्सेटिला, बेलाडोना आदि।

अल्प माहवारी में नेट्रम मूर, आयोद, काल्के-फॉस, पल्सेटिला, सल्फर, एकोनाइट आदि का सेवन करना चाहिए। अनियमित माहवारी (अनियमित मासिक धर्म) में पल्सेटिला, चाइना, इग्लोसिया आदि।

खुराक:

कब्ज पैदा करने वाले भोजन से परहेज करें। चिंता मत करो सही समय पर खाओ और पियो।

मासिक धर्म का इलाज

फॉलो करने के लिए क्लिक करें: फेसबुक और ट्विटर

आप अवश्य पढ़ें:

अनिद्रा का सफलतापूर्वक इलाज..  अम्लता का सफलतापूर्वक इलाज..    एनोरेक्सिया का सफलतापूर्वक इलाज..

बवासीर का सफलतापूर्वक इलाज..    दस्त का सफलतापूर्वक इलाज ..    ट्यूमर का सफलतापूर्वक इलाज..


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *